*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, December 9, 2020

कोरोना के साइड इफेक्ट


कोरोना काल के संग
बदल गए है यूं रंग ढंग
कि कुछ प्रचलित व्यंग ,
होने लग गये  है साकार

चूहा चिन्दियाँ  पाकर ,
बजाज तो नहीं बना ,पर
'मास्क' बनाने का आजकल ,
करने लगा है व्यापार

कोरोना के पहले
हसीनो के चेहरे
बड़े मतवाले होते थे
सुंदर सुहानेअधर
 लिपस्टिक लगाकर
रस भरे प्याले होते थे

पर कोरोना से डर  
मास्क में छिपे अधर ,
लिपस्टिक की बिक्री पर
 असर पड़ा है भारी
आई इस तरह मन्दी
करनी पड़ी तालाबंदी  
 कोरोना की मारी
लिपस्टिक इंडस्ट्री बेचारी

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: