*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, October 26, 2020

इस वर्ष का दशहरा

इस वर्ष का दशहरा

कोविद नाईनटीन का रावन जला दशहरा मैदान में

पर ज्यादा लोग देख नहीं पाए इस आयोजन को

घर से ही दुआ की  अब फिर पलट कर ना आए ऐसी घड़ी

छोटी सी सवारी आई थी रावण के  दहन को

बिना धूमधाम के चुपके से रावण दहन कर चली गई |

बच्चे मेला देखने की जिद्द करते रहे पर कोई नहीं ले गया

कुछ रोए कुछ बहकावे में आए पर वहां पहुँच ना पाए

अगले साल का वादा लिया और जैसे तैसे उनसे पीछ छुडाया

 न जाने कल क्या  होगा किसे पता दुनिया तो आज पर जीती है |

ऐसा उदासी भरा हमने तो कभी देखा नहीं त्यौहार

बस बीती  यादों में खोए रहे हम ऐसे जाते थे मूंगफली खाते थे 

और आज को दुखी मन से भूलने की कोशिश में लगे रहे |

आशा 

 

        

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

No comments: