*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, July 14, 2020

गयी भैंस पानी में

हम कितना कुछ खो देते है ,देखो अपनी नादानी में
जब वक़्त दूहने का आता  ,तब भैंस खिसकती पानी में

हम सही समय पर सही जगह पर करते अपना वार नहीं
रह जाता इसीलिये उजड़ा ,बस पाता  है  संसार नहीं
अपनी संकोची आदत से ,हम बात न दिल की कह पाते
हो जाती बिदा किसी संग वो ,हम यूं ही तड़फते रह जाते
फिर दुःख के गाने गाते है ,हम इस दुनिया बेगानी में
जब वक्त दूहने का आता ,तब भैंस खिसकती पानी में

हम कद्र समय की ना करते ,देता है समय हमें धोखा
जाता है कितनी बार फिसल ,हाथों में आया जो मौका
सीटी दे ट्रैन निकल जाती ,हम उसे पकड़ ना  पाते है  
जब खेत को चिड़िया चुग जाती ,हम सर पकड़े पछताते है
हो जाता बंटाधार सदा  थोड़ी सी आना कानी  में
जब वक़्त दूहने का आता ,तब भैस खिसकती पानी में

करने की टालमटोल सदा ,आदत पीड़ा ही देती है
सींचो ना सही समय पर जो ,तो सूखा करती खेती है
हम बंधना चाहते है उनसे ,पर रिश्ता कोई जोड़ लेता
हम देखरेख तरु की करते ,फल आते कोई तोड़ लेता
हो पाता है वो काम नहीं ,जो हो सकता आसानी में
जब वक़्त दूहने का आता ,तब भैंस खिसकती पानी में

हम दर कर रहते दूर दूर ,देखा करते होकर अधीर
लेकिन जब सांप निकल जाता ,हम पीटा करते है लकीर  
ये हिचक हमारी दुश्मन है ,कमजोरी है ,कायरता है
मन के सब भाव प्रकट कर दो ,वरना सब काम बिगड़ता है
मुंहफट ,स्पष्ट करो बातें ,यदि पाना कुछ जिंदगानी में
जब वक़्त दूहने का आता ,तब भैंस खिसकती पानी में

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: