*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, July 13, 2020

छतरी

दे के अपना साया तुमको बचाया ,
जिसने हरदम बारिशों की मार से
बंद बारिश क्या हुई ,छतरी वही ,
मुसीबत लगती तुम्हे निज भार से
वैसे जिनने ख्याल था पल पल रखा ,
और तुमको पाला पोसा प्यार से
बूढ़े होने पर वही माता पिता ,
तुमको लगने लगते है  बेकार से

घोटू 

No comments: