*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, July 2, 2020

पता नहीं कल ---

मन यदि कुछ करने को करता ,तो करने दो ,
पता न कल ,कुछ करने के हालात  ना रहे
आज कामनाएं जाग्रत है ,मचल रही है ,
पता नहीं कल ,ऐसी कोई  बात ना रहे

बीत गयी सो बीत गयी ,ना लौट सकेगी ,
और कल क्या क्या हो सकता है ,नहीं खबर है
सिर्फ आज है ,जिसमे तुम अपने मन माफिक ,
कुछ भी कर सकते हो ,तुममे चाह अगर है
आज वक़्त है ,उसका पूरा लाभ उठालो ,
पता नहीं कल ,समय तुम्हारे साथ ना रहे
मन यदि  कुछ करने को करत्ता तो करने दो ,
पता न कल ,कुछ करने के हालत ना रहे

यूं तो कहते सारा खेल ,लकीरों का है ,
लिखा  भाग्य  में जो होना ,वो ही है होना
अपने मन मरजी का यदि तुम कुछ कर लोगे ,
नहीं बाद में तुम्हे पड़े पछता कर रोना
मन में आज बसे  हैं सपने कुछ करने के ,
पता न कल ये जोश और जज्बात ना रहे
मन यदि कुछ करने को करता ,तो करने दो ,
पता न कल कुछ करने के हालात ना रहे

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: