*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, June 7, 2020

बड़ी दूर की सूझी

तन्हा थे  वो बीमार थे  कोई न पूछता ,
दिन भर परेशां रहते थे ,बैठे हुए खाली
उनको भी बुढ़ापे में बड़ी दूर की सूझी ,
तिमारदारी के लिए एक नर्स बुलाली  
सुन्दर सी जवां नर्स की फैली जो खबर तो ,
हलचल सी मची ,लग गए बातें बनाने लोग
उनकी तबियत पूछने का लेके बहाना ,
उस नर्स के दीदार को घर आने लगे लोग
सुनसान उनके घर में एक रौनक सी छागयी ,
जब मिलने जुलने वालों की तादाद बढ़ गयी
एक नर्स के आ जाने का ऐसा हुआ असर
चेहरे पे ख़ुशी छागई ,तबियत सुधर  गयी

घोटू 

No comments: