*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, May 23, 2020

आम और जिंदगी -चार दोहे

मैंने चूँसा आम रस  ,तुमने किया हलाल
तुमने टुकड़े खाये, मैं ,रस पी हुआ निहाल

अलग तरीके खान के ,फल है वो ही एक
तुम गूदा टुकड़े करो , देते गुठली फेंक
३  
दबादबा,कर पिलपिला ,मैं पीयूँ रस  घूँट
चूंस गुठलियां, ले रहा  ,दूना आनंद  लूट

ये जीवन है ,आम सा  ,चूंसो ,मज़ा उठाव
यूं न काट,टुकड़े करो,कांटे,चुभा न  खाव

घोटू 

No comments: