*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, May 18, 2020

लॉक डाउन -4

पहला भी गया ,दूजा  बीता ,मुश्किल से तीन गया काटा
अब चार आगया लॉकडाउन ,हर तरफ फिर वही सन्नाटा
है बड़ा विकट ,सारा संकट ,ये कोरोना का ,फ़ैल रहा
कर दिया सभी को आतंकित ,हर देश दंश ये झेल रहा
सारी दुनिया में घबराहट ,कितनो के ही हर लिए प्राण
सब सहमे से ,घर में दुबके ,है बहुत दुखी और परेशान
दो चार ,चार से कर लेंगे ,लड़ना है और निपटना है
ये नहीं पांचवां रूप धरे ,प्रभु से  बस  यही   प्रार्थना है

मदनमोहन बाहेती ;घोटू '

No comments: