*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, May 18, 2020

कंवारे का लोक डाउन

मैं डरता नहीं करोने से
जितना कड़छी और भगोने से
ले सुबह दूध और ब्रेड ,लंच ,ऑफिस में जाकर खाता था
संध्या को होटल जाता था या घर पर टिफिन  मंगाता  था
संडे को कंटाला आता ,कपडे और बर्तन धोने से
मैं  डरता नहीं करोने से
बरमूडा और बनियान पहन ,सब काम करो अब ऑन लाइन
ना चहल पहल ,ना यार दोस्त ,मुश्किल से ही कटता  टाइम
जब भूख लगे ,खुद कुकिंग करो ,उठना ही पड़े बिछोने से
मैं डरता नहीं करोने से
कुछ काम चलाया मेग्गी से ,कुछ केले ,फल से काम चला
जब पड़ा पकाना हाथों से ,तो गरम तवे से हाथ जला
पहले सोने को समय न था ,अब तंग आ गया सोने से
मैं डरता नहीं करोने से  
सीखा कैसे  आटा सनता ,रोटी पर गोल नहीं बिलती
गूगल गुरु से सीखा कैसे ,खिचड़ी और बिरयानी बनती
मम्मी कहती ,शादी करले ,क्या होगा यूं ही रोने से
मैं डरने लगा करोने से  

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

1 comment:

YourHindiQuotes said...

A good informative post that you have shared and thankful your work for sharing the information. I appreciate your efforts and all the best Aaj Ka Suvichar in Hindi this is a really awesome and i hope in future you will share information like this with us