*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, May 19, 2020

कोरोना से गुहार -अलग अलग लोगों द्वारा

पुरुष द्वारा
-----------------

ओ कोरोना सर जी
दिन चल रहे तुम्हारे ,सतालो ,हो जितनी भी मरजी
पूरी तुमको ,टक्कर देंगें ,हम साहस से  भर जी
देंगे भगा ,उखाड़ तुम्हारा ,बोरिया और बिस्तर जी
वेक्सीन आ प्राण तुम्हारा ,झट से लेगा हर जी
फिर से रौनक आ जायेगी,हर घर ,गांव ,शहर जी
करते है नेतृत्व हमारा ,मोदी से लीडर जी
 ओ कोरोना सर जी

महिला द्वारा
--------------
सुनो तुम ओ कोरोना भैया
नचा रहे सारी दुनिया को ,करवा था था थैया
अच्छे अतिथि ,तीन चार दिन ,फिर लगते है आफत
तुम दो महीने से बैठे हो ,तुम में नहीं शराफत  
बंद पड़े बाज़ार ,नहीं की ,इतने दिन से शॉपिंग
ब्यूटी के सेलून बंद ना हेयर सेटिंग कलरिंग
पति बैठ घर ,करे ऑर्डर ,ये लाओ वो लाओ
परेशान कर डाला मुझको ,बंद बंद करवाओ
फिर से चलने लगे ढंग से ,हमरी जीवन नैया
सुनो तुम ओ कोरोना भैया

बच्चे द्वारा
-----------

अजब हो तुम कोरोना अंकल
कितने दिन से कैद कर रखा ,हमको घर के अंदर
ना क्रिकेट ,फ़ुटबाल गेम कुछ खेल सकें घर बाहर
गर्मी की छुट्टी है लेकिन ,जा न पाए नानी घर
बहुत हुआ मेरी नगरी  से ,निकल जाओ अब कल
वरना  पत्थर मार मार कर, कर दूंगा मैं  घायल
बच्चों का भी ख्याल न रखते ,तुम हो दुष्ट भयंकर
अजब हो तुम कोरोना अंकल

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: