*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 15, 2020

बिन सेलून सभी कुछ सूना

मर्दों के बढे बाल ,दाढ़ी का भी बुरा हाल ,
नाइ की दुकाने सारी  बंद पड़ी है
ब्यूटी के सेलून बंद ,रंगे न सँवारे केश ,
महिलाओं की कितनी ,मुश्किल बड़ी है
पतली धनुष जैसी ,भोंहे जो सुहानी सी थी ,
घास जैसी इत उत ,फैली बिगड़ी है
चिकनी सी टाँगे, बढे बाल हुई खुरदरी ,
और मूंछ रेख ,होंठ ऊपर उभरी है

घोटू  

No comments: