*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 22, 2020

हम प्यार जताना भूल गये

जब दिन भर रहते जुदा जुदा
संध्या तक बढ़ती मिलान क्षुधा
अब इतने दिन लॉक डाउन में ,
हम पास पास  ही रहे  सदा
बच्चों से नज़र बचा करके ,
चुंबन को चुराना भूल गये
हो गये तृप्त है अब इतने ,
हम प्यार जताना भूल गये

चाहे कितने ही  रखो छुपा ,
तुम मास्क बाँध ,रस भरे अधर  
सोफे पर चिपके बैठे हम ,
संग देखे टी वी गढ़ा नज़र
तिरछी नज़रों के तीर चला ,
तुम भी तड़फाना भूल गए
हो गए तृप्त है अब इतने ,
हम प्यार जताना भूल गये

मीठे संग रह ,हलवाई की ,
मिट जाती है मीठे की तलब
ना लगती ज्यादा मिलन प्यास ,
चौबिस घंटे तुम पास हो जब
रह काम काज में व्यस्त सदा ,
तुम सजना सजाना भूल गये
 हो गये तृप्त है अब इतने ,
हम प्यार जताना भूल गये    

दीवानापन था विवाह पूर्व ,
अपनापन शादी बाद हुआ
बन गया एक दिनचर्या सा ,
जब मिलन,सुलभ दिनरात हुआ
तुम भी शरमाना भूल गये ,
हमको ललचाना भूल गये
हो गए तृप्त है अब इतना ,
हम प्यार जताना भूल गये

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: