*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, March 17, 2020

बढ़ रही उमर के लक्षण  


बढ़ रही उमर के ये लक्षण
झुर्राया  तन ,झल्लाया  मन
अस्ताचल गामी ,प्रखर सूर्य ,
ढल रहा इस तरह है यौवन

थे कृष्ण कभी,अब श्वेत केश
कुछ हुए बिदा ,कुछ बचे शेष
था जीवन जो चटपटा कभी ,
अटपटा हुआ जाता हर क्षण
बढ़ रही उमर के ये लक्षण

विचरण करते स्वच्छंद कभी
अब हम पर है प्रतिबंध सभी
हो गयी देह है मधुमेही ,
और क्षीण दृष्टी हो गए नयन
बढ़ रही उमर के ये लक्षण

जिनने घर भर रख्खा संभाल
खुद को भी ना सकते संभाल
अब संभल संभल कर चलता है ,
तन कर के चलता था जो तन
बढ़ रही उमर के ये लक्षण

बच्चे खुश है निज नीड बसा
हम तड़फ रहे ,मन पीड़ बसा
हमने घिस घिस ,खुशबू बांटी ,
खुद  रहे काष्ठ ,कोरे  चन्दन
बढ़ रही उमर के ये लक्षण

मदन मोहन बाहेती 'घोटू ' 

No comments: