*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, March 17, 2020

करोना का कहर

लगा लूं उनको गले ,आजकल नहीं मुमकिन ,
अब तो पाबंदी लगी ,हाथ भी मिलाने की
खांस कर ,कर नहीं सकता इशारा आने का ,
लगी है हर तरफ ही चौकसी  जमाने  की
चलेगा काम कैसे दूर से नमस्ते कर ,
करता जी ,हाथ धो के उनके पीछे पड़ जाऊं
करो ना ये ,करो ना वो ,करोना तूने भी ,
बंदिशें कितनी लगा दी है ,मैं  कहाँ जाऊं

घोटू 

No comments: