*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, February 18, 2020

जीवन
 
यही कामना ,सबके मन में , ज्यादा  जिये
सुखमय जीवन बीते ,यूं ही ,बिना कुछ किये
,
जो आया है ,वो जाएगा ,सच  शाश्वत है  
सबकी ही साँसों की संख्या  ,पूर्व नियत है
फिर भी हम कोशिश करते है कहाँ कहाँ से
 लम्बी उमर हमे मिल जाय  यहाँ वहां से
कैसे भी अमृत मिल जाए ,उसको पियें
यही कामना ,सबके मन में ,ज्यादा जियें

 जितनी लम्बी उमर ,बुढ़ापा उतना लम्बा
तन जर्जर ,इच्छा जीने की ,यही अचम्भा
जितने भी दिन जियें ,चैन से ,हंसी ख़ुशी से
प्रेमभाव और मेलजोल हम रखें सभी से
स्वस्थ रहें, निरोग,प्रेम से ,खाएं, पियें
यही कामना सबके मन में ,ज्यादा जियें

घोटू 

No comments: