*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, February 16, 2020

अठहत्तरवें  जन्मदिवस पर

—————————-

मन मदन,मस्तिष्क मोहन,मद नहीं और मोह भी ना

और मै बहती हवा सा,सुगन्धित हूँ,मधुर, भीना

कभी गर्मी की तपिश थी,कभी सर्दी थी भयंकर

कभी बारिश की फुहारों का लिया आनंद जी भर

कभी अमृत तो गरल भी,मिला जो पीता गया मै

विधि ने जो भी लिखा उस विधि जीता रहा मै

कभी सुख थे ,कभी दुःख थे,कभी रोता,कभी हँसता

कई जीवन रंग देखे, हुआ अठहत्तर  बरस का


मदन मोहन बहेती 'घोटू '

No comments: