*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, January 28, 2020

कड़की में हूँ

मैं कड़क नहीं हूँ मगर,आजकल कड़की में हूँ
है  मस्ती  का मर्ज ,मस्त  मन  मर्जी  में  हूँ  

मैं चारा ना खाऊं ,कहा जाता बेचारा ,
चारा खाऊ नेता बने विपुल धनस्वामी
पड़ी वक़्त की मार मुझे बीमार कर गयी ,
 कुछ न किया बद ,मगर मिली मुझको बदनामी
कार नहीं ,बेकार समझते है मुझको सब ,
मिली न बस ,बेबस ,आवारागर्दी में हूँ
मैं कड़क नहीं हूँ ,मगर आजकल कड़की में हूँ

मेरे तन में, मन में विष का वास नहीं ,
फिर भी मुझ पर  लोगों का विश्वास नहीं
सांस सांस में प्यार  लुटाता मैं जिन पर ,
उन लोगों को होता पर अहसास नहीं
रहा हर बरस ,तरस तरस ,वो ना बरसे ,
जेब गरम ना रहती है पर गरमी में हूँ
मैं कड़क नहीं हूँ मगर आजकल कड़की में हूँ

वृहद विचारों वाला हूँ पर हद में रहता ,
सदाचार का मारा सदा चार की सुनता
भाव बढे जिसके प्रभाव से भाव न उठते ,
लिखना चाहूँ गीत ,मिले ना धुन ,सर धुनता
सदा चरण छूता हूँ सदाचरण के कारण ,
बिना सुरा ,बेसुरा होगया ,सरदी में हूँ
मैं कड़क नहीं हूँ ,मगर आजकल कड़की में हूँ

मदन मोहन बाहेती ;घोटू '

No comments: