*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, January 27, 2020

सरहदों के मौसम एक से 
बस अलग था तो 
मार दिया जाना पंछियों का
जो उड़कर उस पार हो लिए

रंगनी थी दिवार
कि जब तक खून लाल ना हो
जमीन भींग ना जाए
और हम सोते रहें

देर रात जश्न मनाते 
शराब पी बे- सूद
अपनी औरतों को मारते
हम अलग नहीं

चौराहे 
अलग रंग के
अलग शहरों के 
घटना एक सी
रेप कर दिया
चाकू मार दिया
हम एक हैं अलग नहीं

ये खून हरा है
खून बहेगा तबतक
जबतक वो लाल नहीं होता
मरेगी औरतें, मारेगा आदमी
होंगे रेप
चलेंगे चाकू

आदमी सोच रहा
हम हरे खून वाले 
जब बहेंगे 
तब बहेगा जहर 
तो खून लाल कर दो देवता
या पानी बना बहा दो सब
आ जाने दो प्रलय
अब जलमग्न हो जाने पर ही धूल पाएगी दुनिया

हम हो पायेंगे इंसान
तब ये खून लाल होगा

Deepti Sharma

No comments: