*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, January 28, 2020

जयचंदों के मारे है

कुछ तो उलटे सीधे धंधों के मारे है
विभीषणों के या जयचंदों के मारे है
शब्द शब्द को पिरो बनाते कविता माला ,
अलंकार के ,लय और छंदों के मारे है
ज्ञान नहीं पर हरेक बात में राय बताते ,
हम ऐसे कई  रायचंदो के मारे है
जादू टोना और टोटका ,वशीकरण सब ,
ऐसे कितने  दंदों फंदों के मारे है
रोज रोज ला ,नयी कबूतरी ,ऐश कर रहे ,
हमें जलाते ,उन्ही परिंदों के मारे है
नहीं पास में दाने ,अम्मा चली भुनाने ,
मंहगे मंहगे शौक ,पसंदों के मारे है
बन कर के हमदर्द ,दर्द जो देते हमको ,
बन्दे हम अपने ही बंदो के मारे है

घोटू 

No comments: