*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, November 16, 2019

चलो हम बीयर पियें

इस गर्मी वाले मौसम में ,कुछ पल तो खुशियों के जियें
चलो हम बीयर पियें
चिल्ड ,उफनती,झागिल बीयर ,की पी घूँट गला तर होगा
गर्मी सब फुर्र  हो जायेगी ,मस्ती भरा असर पर  होगा
हल्का हल्का सा सरूर भी ,आयेगा पर धीरे धीरे
दारू जैसी झट न चढ़ेगी ,नशा  छायेगा   धीरे धीरे
बड़ी देर तक वक़्त कटेगा ,एक गिलास हाथ में लिये
चलो हम बीयर पियें
सॉफ्ट नहीं ना हार्ड बीच की ,है ये ड्रिंक बड़ी अलबेली
ठंडी है पर बड़ी देर तक ,मस्ती देती ,कर अठखेली
दारू नहीं ,दवा के जैसा ,होता है ये जौ का पानी
लम्बे मग में ,घूँट घूँट पी ,कट जाती  है ,शाम सुहानी
उठा गिलास चीयर जब कहते ,जल जाते है दिल में दिये
चलो हम बीयर पियें
बैठ बार में ,यदि मस्ती में ,करना टाइम पास अगर है
सबसे अच्छी ,सबसे सस्ती ,ड्रिंक  दोस्तों ये बीयर है
बीयर से चीयर करने का ,हमे जानना ,मर्म चाहिए
बीयर चिल्ड ,लगे है अच्छी ,लेकिन डीयर गर्म चाहिए
टूटे दिल के फटे रिलेशन ,घूँट घूँट ,तुरपन कर सियें
चलो हम बीयर पियें

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: