*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, November 26, 2019

मुस्कराना सीखलो

प्यार दुनिया आप पर बरसायेगी ,
आप  ढंग से मुस्कराना सीख लो
कुंडिया हर द्वार की खुल जायेगी ,
आप ढंग से ,खटखटाना सीख लो
बहुत  गहरा होता है दिल का कुवा ,
जिसमे रहता प्यार का अमृत भरा ,
उम्र भर तुम प्यार का अमृत  पियो ,
कुवे में बस उतर जाना  सीख लो
सूजी आटे की है फुलकी ,खोखली ,
खट्टा मीठा प्यार, पानी  चटपटा ,
स्वाद इनका उठा पाओगे तभी ,
फुलकी में भर ,गटक जाना सीखलो
टूटता दिल तो निकलती आह है
अगर सच्ची चाह है तो राह है ,
लगाना दिल का नहीं है दिल्लगी ,
आप ढंग से ,दिल लगाना सीख लो
कोई लड़की अगर  दिल को भा गयी
प्यार की बदली हृदय पर छा गयी,
नहीं आसां झट  पटाना लड़कियां ,
पहले थोड़ा छटपटाना सीख लो

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: