*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, November 26, 2019

  आरजू -ढलती उम्र की

सीढ़ियां हमसे चढ़ी जाती नहीं ,
शौक़ है जन्नत की रौनक  देखलें
आँखें धुंधली ,मगर है हसरत यही ,
हुस्न हूरों का हम भरसक  देखलें
आरजू ये मन की बढ़ती जा रही ,
ये भी ले ले ,वो भी ,कुछ छोड़े नहीं ,
स्वाद के मारे है हरदम चाहते ,
सभी अच्छी चीजों को चख देखलें
पेड़ ,पौधे ,पहाड़ नदियां ,वादियां ,
बड़ी तबियत से रचे भगवान ने ,
बहुत ही है खूबसूरत ये  जहाँ ,
सभी को हम फेंक नज़रें देखलें
दुखी ,बेबस ,ग़म भरा संसार है ,
जिंदगी में कितनो की अन्धकार है ,
जगमगा रोशन करें हर जिंदगी ,
प्यार का दीपक जला कर देखलें
सब में बांटे प्यार ,करके दोस्ती ,
जींतलें दिल सबका सदव्यवहार से ,
सभी पर हम छाप अपनी छोड़ दें ,
सभी को अपना बना कर देखलें
हम कभी भी अहम् में डूबे नहीं ,
सादगी से जियें ,हँसते खेलते ,
दिल किसीका कभी भी तोड़े नहीं,
 सभी को दिल से लगा  कर देखलें

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '  

No comments: