*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, October 23, 2019

दर्द तो है

पीर थोड़ी कम हुई पर दर्द तो है
आग दिल में ,मगर आहें सर्द तो है

चाल ढीली है मगर चल तो रहें है
तेल कम ,पर ये दिये  जल तो रहे है
नज़र धुंधली है मगर दिख तो रहा है
चलता रुकरुक,पेन पर लिख तो रहा है  
बीबी बूढी ,मगर करती प्यार तो है
बसा अब तक ,तुम्हारा संसार तो है
तुम्हारा जग में कोई हमदर्द तो है
पीर थोड़ी कम हुई पर दर्द तो है

हुए उजले ,मगर सर पर बाल तो है
बजती ढपली ,भले ही बेताल तो है
धूप थोड़ी कुनकुनी पर गर्म तो है
वो बड़े बिंदास है पर शर्म तो है
सपन आते नहीं ,आती नींद तो है
झगड़ते हम ,मगर हममें प्रीत तो है
गजब जलवा हुस्न का ,बेपर्द तो है
पीर थोड़ी कम हुई पर दर्द तो है

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: