*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, October 25, 2019

त्योंहारों का मज़ा  

जब भी सब भाई बहन ,एक साथ मिल जाते ,
सूना घर भरा भरा लगता है
पुष्प सभी एक साथ ,जब सुरभि बिखराते ,
उपवन भी हरा भरा लगता है

घर के हर कोने में ख़ुशी व्याप्त हो जाती ,
चाहे हो होली या चाहे हो दीवाली
दीपक सा ज्योतिर्मय ,हर चेहरा हो जाता ,
संग मिले लगता है ,हरदिन ही त्योहारी  
हंसी ख़ुशी ,मेलजोल ,प्यार भरे मधुर बोल ,
अपनापन खरा खरा लगता है
जब भी सब भाई बहन ,एक साथ मिल जाते ,
सूना घर भरा भरा लगता है

स्नेह बिखराते  बुजुर्ग ,प्यार लुटाते बच्चे ,
चहलपहल चमकदमक ,खुशियों की बरसाते
संग संग जब आ जाते ,सब चेहरे मुस्काते ,
करते है हंस हंस कर ,जग भर की सब बातें
एक दूसरे के सुख दुःख ,आपस में बंट जाते ,
परिवार साथ खड़ा लगता है
जब भी सब भाई बहन एक साथ मिल जाते
सूना घर भरा भरा लगता है

कुछ दिन रह संग संग ,रंग जाते एक रंग ,
रिश्तों की अहमियत ,जान जाते है बच्चे
एक साथ खानपान ,मधुर मधुर व्यंजन सब ,
लगते है स्वाद भरे और,और भी अच्छे
माला के मोती सब ,एक साथ जुड़ते जब
कंठ हार ,बड़ा बड़ा लगता है
जब भी सब भाई बहन एक साथ मिल जाते ,
सूना घर भरा भरा लगता है

मदन मोहन बाहेती 'घोटू ''

No comments: