*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, September 25, 2019

रजतकेशी सुंदरी  

रजतकेशी  सुंदरी तुम
अभी भी हो मदभरी तुम
स्वर्ग से आई उतर कर ,
लगती  हो कोई परी तुम

मृदुल तन,कोमलांगना हो
प्यार का  तरुवर घना  हो
है वही लावण्य तुम में ,
प्रिये तुम चिरयौवना  हो

अधर  अब भी है रसीले
और नयन अब भी नशीले
क्या हुआ ,तन की  कसावट ,
घटी ,है कुछ अंग  ढीले

है वही उत्साह मन में
चाव वो ही ,चाह मन में
वही चंचलता ,चपलता ,
वही ऊष्मा ,दाह तुम में

नाज़ और नखरे वही है
 अदायें कायम  रही है
खिल गयी अब फूल बन कर ,
चुभन कलियों की नहीं है

भाव मन के जान जाती
अब भी ,ना कर ,मान जाती
उम्र को दी मात तुमने ,
मर्म को पहचान जाती

बुरे अच्छे का पता है
आ गयी  परिपक्वता है
त्याग की और समर्पण की ,
भावना मन में सदा है

नित्य नूतन और नयी हो
हो गयी ममतामयी  हो
रजतकेशी सुंदरी तुम ,
स्वर्णहृदया बन गयी हो

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: