*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, July 30, 2019



हाय  राम  मै इंटरव्यू में फ़ैल हो गया

बहुत दिनों के बाद सास की आस मिली थी
या यूं समझो मुर्दा दिल को सांस मिली थी
क्या सोचा था मैंने पर क्या हाय  हो गया
सपनो का बेलून हवा में  फ्लाय हो गया
महल बना था ,अरमानो का ,ढेर हो गया
हाय राम मैं इंटरव्यू में फ़ैल हो गया

मन में जिसका डर था उसको फेक्ट कर दिया
लड़की की अम्मा ने मुझे रिजेक्ट कर दिया
शादी माँ को तो ना बेटी को करनी थी
लेकिन दुःख की लुटिया तो मुझको भरनी थी
दालभात में मूसरचंद का मे हो गया
हाय राम मैं इंटरव्यू में फ़ैल हो गया

माना मोटे होठ नाक मेरी चौड़ी है
लेकिन मेरी सूरत क्या इतनी भोंडी है
यूं ही नर्वस था मैं बोला हौले हौले
जैसे ही सर मुंडा पड़  गए सर पर ओले
जीते जी दुनिया में रहना जेल हो गया
हाय राम मैं इंटरव्यू में फ़ैल हो गया

घोटू 

No comments: