*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, July 15, 2019

प्यार करो तुम 'स्टाइल 'से

इश्क़ नहीं आसान जरा भी ,
ये तो है एक आग का दरिया
इसमें डूबो ,तब जानोगे ,
तकलीफें होती है क्या क्या
मुश्किल बहुत पटाना लड़की ,
कई बेलने पड़ते पापड़
उसके  घर के और गलियों के ,
कई लगाने पड़ते चक्कर
अपनी चाह प्रकट करने का
कोई खोजना होगा रस्ता
,प्रेम प्रदर्शन करना होगा ,
लेकिन आहिस्ताआहिस्ता
उसके मन को मोहित करने ,
के उपाय अपनाने होंगे
प्रेम नीर से सींचों उपवन  
तब ही पुष्प सुहाने होंगे
कई जतन करने पड़ते है ,
यार मिला करता मुश्किल से
इसीलिये यदि प्यार करो तो ,
प्यार करो तुम स्टाइल से

लड़की होती है शरमीली ,
धीरे धीरे हाथ आएगी  
जल्दी जल्दी अगर करोगे ,
तो वो शायद भड़क जायेगी
जैसी तड़फ तुम्हारे दिल में ,
उतनी उसमे भी जगने दो
थोड़ी थोड़ी आग मिलन की
उसके दिल में भी लगने दो
उसका हृदय जीतना होगा ,
धीरे धीरे ,नहीं एकदम
मत बरसो घनघोर घटा से ,
बरसो तुम सावन से रिमझिम
अगर प्यार के मीठे फल का ,
सच्चा स्वाद तुम्हे है चखना
तो फिर उसके पक जाने तक ,
तुम्हे पड़ेगा धीरज रखना
समय लगेगा ,किन्तु लगेगी ,
तुम्हे चाहने ,सच्चे दिल से
इसीलिये यदि प्यार करो तो ,
प्यार करो तुम स्टाइल से

टाइम लगता ,आसानी से ,
नहीं कोई लड़की पटती है
उसके मन की झिझक हमेशा ,
धीरे धीरे ही घटती है
तुम्हे प्रतीक्षा करनी होगी ,
झटपट की मत करना गलती
तुम उतावले हो जाते हो ,
वो न पिघलती इतनी जल्दी
दे उपहार ,उसे बहलाओ ,
उसकी जुल्फों को सहलाओ
दिल में घुसो ,नयन द्वारे से ,
'आई लव यू 'उससे कहलाओ
इतनी मन में आग लगा दो ,
कि वह भी हो जाय दीवानी
मिलन प्रेमियों का हो जाए ,
हो सुखांत यह प्रेमकहानी
लाये दिवाली फिर जीवन में ,
प्रेम दीप ,अपनी झिलमिल से
अगर प्यार करना है तुमको ,
प्यार करो तुम स्टाइल से

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '
 
,

No comments: