*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, July 30, 2019

बारिश है पर  दूर सजन है

बारिश है पर दूर सजन है
चूल्हा ठंडा पड़ा हुआ है ,सिगड़ी बिगड़ी ,नहीं अगन है
बारिश है पर दूर सजन है

 है स्टोव बिसूरता उसमे पर मिट्टी का तेल नहीं है
ओ  पीहर की प्यारी  प्रियतम मेरा घर भी जेल नहीं है
आज केटली खाली खाली ,भाग गयी है चाय निगोड़ी
ठंडा मौसम,भूख लगी पर ,कौन खिलाये  मुझे पकोड़ी
तेल पड़ा मीठा तिल्ली का  ,मगर पास  में  ना बेसन है
बारिश है पर दूर सजन है

नहीं आग सुलगा सकता हूँ ,क्योंकि सील गयी है माचिस
भुट्टा छिलकों बीच दबा है ,कैसे  पाऊं भुट्टे का किस
बाहर रिमझिम है गीलापन ,लेकिन मेरा उर सूखा है
ओ दिलवाली ,ये दीवाना ,तेरे दरशन का भूखा है
पी घर से तो मन उकताता ,पर पीहर से लगी लगन है
बारिश है पर दूर सजन है

घोटू 

No comments: