*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 3, 2019

पतझड़ की उमर

ये पतझड़ की उम्र डाल पर किसको कितना टिकना है 
हमको तुमको सबको एकदिन टूट शाख़ से गिरना है
विकसे थे हम कभी वृक्ष पर नरम मुलायम किसलयथे 
 नन्हें नन्हें ,चिकने चिकने ,हम कितने कांतिमय थे 
साथ वक़्त के हरे भरे हो ,बड़े हुये हम ,इतराये
ख़ूब पवन झोंको में डोले ,हम सबके ही मन भाये
ग्रीष्म ऋतु में छाया दी और शीतल मस्त बयार बने 
एक दूजे संग की अठखेली,हम यारों के यार बने 
रितुयें बदली साथ वक़्त के ,पतझड़ का मौसम आया
हम पीले कमज़ोर पड़ गये ,हवा चली ,संग बिखराया
कोई जला दिया जायेगा और किसी को गढ़ना है 
बन कर खाद ,नये पौधों को ,हराभरा फिर करना है 
ये पतझड़ की उम्र डाल पर किसको कितना टिकना है 
हमको तुमको सबको एकदिन टूट शाख़ से गिरना है 

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: