*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, May 2, 2019

फ्लर्टिंग 
                   १ 
मज़ा लैला और मजनू सी,मोहब्बत में नहीं आता 
मज़ा मियां और बीबी की ,सोहबत में नहीं  आता 
चुगे या ना चुगे चिड़िया ,रहो तुम डालते दाना ,
मज़ा जो आता फ्लर्टिंग में ,कहीं पर भी नहीं आता 
                           २ 
तुम्हारी हरकतों से वो,अगर जो थोड़ा हंसती है 
कर रहे फ्लर्ट तुम उससे ,भली भांति समझती है 
हंसी तो फंस गयी है वो,ग़लतफ़हमी में मत रहना ,
मज़ा उसको भी आता है ,वो टाइम पास करती है 
                             ३ 
देख कर हुस्न मतवाला ,तुम्हारी बांछें जाती खिल 
लिया जो देख बीबी ने ,बड़ी हो जाएगी   मुश्किल 
जवानी देखते उसकी ,बुढ़ापा  अपना भी देखो ,
कहेगी जब तुम्हे अंकल,जलेगा फिर तुम्हारा दिल 
                           ४ 
ये तुम्हारा दीवानापन ,ज़माना ताकता  होगा 
फलूदा होगी इज्जत जो,गये पकड़े,पता होगा 
बड़ा छुप छुप के मस्ती में ,इधर तुम मौज लेते हो,
उधर घर में तुम्हारे भी ,पड़ोसी झांकता होगा  

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: