*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, February 27, 2019

अनिल ममता मिलान -शादी के बाद 
१ 
शादी कर जीवन हुआ ,दोनों का खुशहाल  
एक दूजे का प्रेम से ,रखते थे वो ख्याल 
रखते थे वो ख्याल ,खिली जीवन की बगिया 
रितिका और राधिका ,महकी दो दो कालिया 
गुणी  और होशियार ,मगर 'मूडी 'मनभाती 
मम्मी और पापा दोनों को नाच नचाती 

२ 
दिल्ली आये ,काम में ,दोनों ही हो व्यस्त 
थक जाते थे शाम तक ,हो जाते थे पस्त 
हो जाते थे पस्त ,यही होता था   अक्सर 
ममता हॉस्पिटल में रहता अनिल टूर पर 
कह घोटू कविराय इस तरह चली गृहस्थी 
फिर भी खुश थे ,प्यार भरी थी इनकी मस्ती 

घोटू 

No comments: