*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, October 8, 2018

ऊंचे लोग-नीची हरकत 

यहाँ सब है केंकड़े ही केंकड़े ,
एक दूजे के है सब पीछे पड़े 
कोई भी जब निकलने ऊपर चढ़ा ,
                दूसरों ने टांग उसकी खींच ली 
किसी ने की अगर थोड़ी गलतियाँ 
दूसरों ने बवंडर जम  कर किया 
दूसरों की गलती सब आई नज़र ,
                   अपनों की गलती पे आँखे मींच ली 
मिला मौका लेने का,जम कर लिया 
भरी दोनों हाथ अपनी झोलियाँ 
और अवसर देने का जब आया तो,
                     उनने कस कर,अपनी मुट्ठी भींच ली 
साम्यता का गीत गाते थे बड़ा 
मगर जब भी पानी का टोटा पड़ा 
लोग प्यासे तरस कर मरते रहे ,
                     मगर उनने अपनी बगिया सींच ली 
हुआ जब उपहास तो आ क्रोध में 
इस तरह से वो जले प्रतिशोध में 
द्रोपदी की तरह साडी खींच कर,
                      उसकी इज्जत इनने सबके बीच ली 
उनके आशीर्वाद से होकर खड़े ,
मुश्किलों से ही थे हम ऊपर चढ़े 
ये तरक्की उनको यूं चुभने लगी ,
                       उनने झट नीचे से सीढ़ी खींच ली 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: