*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, September 28, 2018

चार पंक्तियाँ -३ 

निश्चित ही उनके मन में कोई चोर छुपा था ,
आहट  जरा सी क्या  हुई ,वो चौंकने लगे
आदत से अपनी इस तरह लाचार हो गए ,
हमने कहा जो कुछ भी , हमे टोकने लगे 
डरते थे निकल जाए नहीं उनसे हम आगे ,
अटका के रोड़े ,राह को वो  रोकने लगे 
हमने जो उनके 'डॉग 'को कुत्ता क्या कह दिया ,
कुत्ता तो चुप रहा मगर वो भोंकने लगे 

घोटू  

No comments: