*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, July 20, 2018

पति ही है वो प्राणी 

कठिन सास का अनुशासन है और ननद के नखरे 
देवर के तेवर तीखे है ,और  श्वसुर सुर  बिखरे 
बेटा  सुनता नहीं जरा भी ,कुछ बोलो तो रूठे 
बेटी  हाथों से मोबाईल , मुश्किल से ही  छूटे 
और देवरानी  देवर से ,चार कदम  है  आगे 
नौकर से जो कुछ बोलो तो काम छोड़ कर भागे
पर जिससे हर  काम कराने में होती है आसानी
पत्नी आगे पीछे   नाचे  ,पति ही है वो  प्राणी 
मेहरी ,कामचोर नंबर वन ,फिर भी है नखराली 
दिन भर खुद ही खटो काम में ,समय न मिलता खाली 
सुनु एक की दस ,सब से ही ,जो मैं बोलूं चालूं  
अपने मन की सब भड़ास मैं ,बोलो कहाँ निकालूँ 
जिसे डाट मन हल्का कर लूं ,और जो सुन ले मेरी 
बिना चूं चपड़ ,बात मान ले ,बिना लगाए  देरी 
सिर्फ पति हर बात मानता ,है बिन आना कानी 
पत्नी आगे पीछे नाचे ,पति ही है वो  प्राणी 

मदनमोहन बाहेती 'घोटू '
  

No comments: