*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, March 12, 2018

वंदना-अरविन्द परिणय रजत जयंती पर 

प्रभु वंदन कर वंदना ,पाई पति अरविन्द 
जीवन में मुखरित हुआ,प्रेम,ख़ुशी,आनंद 
प्रेम,ख़ुशी,आनंद,मुदित मन वो  हरषाये 
गठ बंधन में बंधे ,बरस पच्चीस  बिताये 
अविनाश सा पुष्प खिला उनके उपवन में 
यही कामना सुख बरसे उनके  जीवन  में 

मदन मोहन बाहेती 'घोटू' 

No comments: