*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, February 9, 2018

प्रीतम तुम कितना बदल गए 

प्रीतम तुम कितना बदल गए 

पहले जब ऑफिस से आते थे 
मेरे काम में कितना हाथ  बटाते थे 
कभी मैथी साफ़ कर दिया करते थे ,
कभी मटर छिलवाते थे 
पर जब से तुम हुए हो रिटायर 
काम नहीं करते हो रत्ती भर 
मटरगश्ती तो करते रहते हो दिन भर 
पर क्या छिलवाते हो मटर ?
परसों ,मैं प्रिजर्व करने के लिए ,
पंद्रह किलो मटर थी लाइ 
पर तुमने एक फली भी नहीं छिलवाई 
मैंने बुलाया तो बोले 
डिस्टर्ब मत करो,
मैं शेयर के इन्वेस्टमेंट में हूँ व्यस्त 
और मैंने ही अकेले सारे मटर छीले 
हो गयी पस्त 
तुमने ये भी नहीं सोचा ,
इतने मटर का प्रिजर्वेशन भी,
एक तरह का इन्वेस्टमेंट है 
इससे ,सस्ते दामों पर ,
साल भर,ताजे मटरों  का ,
हो जाता अरेंजमेंट है 
ये भी कोई बात हुई ,
की साल भर तक तो ,
मटर पनीर की सब्जी ,
चटखारे ले लेकर खाओगे 
पर आज मेरे मटर नहीं छिलवाओगे 
अच्छा मटर की छोडो ,
घर में कितने इकट्ठे हो गए है रद्दी अखबार 
तुमसे कह चुकी हूँ कितनी बार 
इनको रद्दीवाले को अगर बेच आएंगे 
घर की जगह भी साफ़ होगी ,
और चार पैसे भी हाथ आएंगे 
पर आपके कान में जूँ भी नहीं रेंग पाई है 
अरे ये तो तुम्हारी ऊपरी कमाई है 
पहले अचार भी डलवाते थे 
केरी कटवाते थे 
मसाला मिलवाते थे 
मैं जो कहती मानते थे 
मेरे आगे दम हिलाते थे 
पर जब से रिटायर हुए हो,
तुममे आलस छा गया है 
कुछ करते धरती नहीं ,
तुम में निठल्लापन आ गया है 
पहले हर काम करने को रहते थे तत्पर 
अब टीवी देखते हुए ,
दिन भर पड़े रहते हो घर पर 
न कोई जोश है ,न उमंग है 
अरे क्या ये भी कोई जीने का ढंग है 
न वेलेंटाइन पर गुलाब लाते हो 
न कभी होटल में खिलाते हो 
तुम्हारा ध्यान मेरी ओर से हटने लगा है 
तुम्हारा प्यार आजकल घटने लगा है  
कितने दिनों से मुझे ,दिखाने नहीं पिक्चर गए हो 
प्रीतम ,तुम कितने बदल गए हो 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: