*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, January 31, 2018

लंगोटिया यार 

कभी जो हमारा लंगोटिया यार था 
हमारे लिए मरने मिटने को तैयार था 
आजकल वो बड़ा आदमी बन गया है 
थोड़ा गरूर से तन गया है 
उसने लंगोट पहनना छोड़ दी है 
और शायद लंगोट की मर्यादा तोड़ दी है 
इसलिए लंगोटिया यारों को भुला बैठा है 
हमेशा गर्व से रहता ऐंठा है 
आजकल वो ब्रीफ पहनता है 
ब्रीफ में बात करता है 
ब्रीफकेस लेकर शान से चलता है 
लंगोटी की डोरी का कसाव ,
अब ब्रीफ के एलास्टिक की तरह लचीला हो गया है 
वो थोड़ा कैरेक्टर का भी ढीला हो गया है 
पद और पैसा पाकर लोग बदलने लगते है 
नए वातावरण में ढलने लगते है 
कभी कभी इतने मगरूर हो जाते है 
कि अपने लंगोटिया यारों को भी भूल जाते है 
पर ये अब भी मुस्करा कर बात करता है 
शायद डरता है 
कहीं हम उसके बारे में लोगो को 
उलटा सीधा न बोल दें 
उसके बचपन की पोल न खोल दें 

घोटू 

No comments: