*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, November 21, 2017

पप्पू प्रेसिडेंट हो गया 

राजवश का कोई राजा ,पब्लिक का सर्वन्ट हो गया  
कल तक था जो मिटटी गारा ,आज वही सीमेन्ट हो गया  
सत्ता सिमट रही अपनों में,देखो कैसा ट्रेन्ड हो गया 
पप्पू प्रेसिडेंट हो गया 
जबसे मंदिर मंदिर जाकर ,उसने अपना शीश झुकाया 
जबसे उसने अपने मस्तक पर चन्दन का तिलक लगाया 
तबसे कम बकवास कर रहा ,वो थोड़ा डिसेन्ट  हो गया 
पप्पू प्रेसिडेंट हो गया 
उसकी जयजयकार कर रहा ,है उसके चमचों का जत्था 
मम्मी  खुश है , यही तसल्ली, पास रही  पुश्तैनी  सत्ता 
अब तक उसका राज टेम्पररी था अब परमानेन्ट हो गया 
पप्पू प्रेसिडेंट हो गया 
राजनीति में ,कुर्सी की हसरत ,क्या क्या करवा देती है 
पिज़ा ,पास्ता खाने वाले को, खिचड़ी  खिलवा देती है 
एक पुदीने का पत्ता था, अब वो पिपरमेंट  हो गया 
पप्पू प्रेसिडेंट हो गया 
प्रौढ़ खून में आयी जवानी ,अब कोतवाल बन गए सैया 
नाव डुबोने वाला मांझी ,ही अब देखो बना खिवैया 
अध्यादेश फाड़ने वाला ,कितना ओबीडियन्ट हो गया 
पप्पू प्रेसिडेंट हो गया 
बांह चढाने का अफलातूनी अंदाज बदल जाएगा 
आज चढ़ा है कुर्सी पर तो कल घोड़ी भी चढ़ जाएगा 
हाथ मिला ,सेल्फी खिचवाता ,अब वो सबका फ्रेन्ड हो गया 
पप्पू प्रेसिडेंट हो गया 
अब जितने बेरोजगार है ,सबको जॉब दिला देगा वो 
जितना करजा है किसान पर ,सबको माफ़ करा देगा वो 
वादे कर सबको भरमाना ,राजनीति का ट्रेंड हो गया 
पप्पू प्रेसिडेंट हो गया 

मदन मोहन बाहेती 'घोटू'

No comments: