*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, October 24, 2017

घर का खाना 

चाट से अच्छी तो बीबी की डाट है ,
और मीठी ,मिठाई से ,तक़रार है 
पेट इनसे हमारा बिगड़ता नहीं ,
बाद में मिलता जी भर हमें प्यार है 
ना शुगर और न बढ़ना क्लोस्ट्रोल का 
है असर ऐसा बीबी के कंट्रोल का 
जेब भी अपनी ढीली है होती नहीं,
खर्च होता नहीं कोई बेकार है 
जिद नहीं करती बीबी कि होटल चलें 
क्योंकि वेज़ नॉनवेज संग जाते तले 
सब्जी दो सौ की ,रोटी मिले तीस की ,
यूं न पैसे लुटाते समझदार है 
चाट ठेले पर खाने का मन ना करे 
धुल मिटटी से सब है सने से पड़े 
गोलगप्पे का पानी ,भरोसा नहीं ,
कितना 'इंफेक्शियस 'और बेकार है 
इसलिए छोड़ होटल के सब चोंचले 
घर में बीबी के हाथों के फुलके भले 
मिलती तृप्ति है सच्ची इसी खाने से,
क्योंकि खाने में घर के बसा प्यार है 

मदन मोहन बाहेती 'घोटू '

No comments: