*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, September 6, 2017

गणपति बाप्पा से 

बरस भर में ,सिरफ दस दिन,
यहां आते हो तुम बाप्पा 
जमाने भर की सब खुशियां ,
लुटा जाते हो तुम बाप्पा 
तुम्हारे मात्र दर्शन से ,
कामना पूर्ण हो मन से 
भावना ,भक्ति की गंगा,
बहा जाते हो तुम बाप्पा 
लगा कर रोली और चंदन ,
करें तुम्हारा सब वंदन
सभी को रहना मिलजुल कर ,
सिखा जाते हो ,तुम बाप्पा 
भगत सब हो के श्रद्धानत,
चढ़ाते आपको मोदक ,
समृद्धि ,सुख की परसादी ,
खिला जाते हो तुम बाप्पा 
गजानन ,विघ्नहर्ता हो 
सदा आनन्दकर्ता हो 
विनायक हो,हमे लायक ,
बना जाते हो तुम बाप्पा 
साथ दस दिन, लगे प्यारा
विसर्जन होता तुम्हारा 
समाये दिल में पर रहते,
कहाँ जाते हो,तुम बाप्पा 

मदन मोहन बाहेती'घोटू' 

No comments: