*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, September 6, 2017

अध्याय नहीं ,परिशिष्ट सही 

तुम्हारी जीवन पुस्तक का ,अगर नहीं अध्याय बना मैं ,
तो कम से कम ,परिशिष्ट ही,अगर बना ,आभार करूंगा 
तुम्हारी जीवनगाथा का ,नहीं पात्र जो  अगर बन सका ,
फिर भी प्यार किया था तुमसे ,और जीवनभर प्यार करूंगा 
मेरा तो ये मन दीवाना ,पागल ,सदा रहेगा  पागल ,
चाह रहा था चाँद चूमना ,मालुम था ,पाना मुश्किल है 
लेकिन इसे चकोर समझ कर ,लेना जोड़ नाम संग अपने ,
बहुत चाहता तुम्हे हृदय से ,नहीं मानता ,दिल तो दिल है 
थाली में जल भर कर मैंने ,तुम्हारी छवि बहुत निहारी ,
कम से कम बस इसी तरह से ,तुम्हे पास पाया है अपने  
छूता तो लहरों में छवि ,हिल ,लगता जैसे ना  ना कहती ,
कर न सका महसूस तुम्हे मैं ,रहे अधूरे मेरे सपने 
कभी दूज में तुम्हे निहारा ,घूंघट में आहट चेहरे की , 
देखा अपलक ,पूरा मुखड़ा ,कभी पूर्णिमा की रातों में 
कभीअमावस को जब बिलकुल,नहीं नज़र आती तो लगता ,
निकली शायद मुझसे मिलने ,मैं खो जाता,जज्बातों में 
मिलन हमारा नहीं हुआ पर,यही लिखा शायद नियति ने ,
किन्तु चांदनी जब छिटकेगी,मैं तुमसे अभिसार करूंगा 
तुम्हारी जीवन पुस्तक का ,अगर नहीं अध्याय बना मैं ,
तो कम से कम परिशिष्ट ही ,अगर बना,आभार करूंगा 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: