*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, August 2, 2017

दिल दरिया होता 

एक पल प्यार का जो, उनके संग जिया होता 
तड़फते दिल को सुकूं ,मिला  शर्तियां  होता 
डाइबिटीज का भी खतरा हम उठा लेते ,
मीठी बातों से उनने जीत दिल लिया होता 
चाह  थी डाले गले में हम ,सूत्र मंगल का ,
सूत्र राखी का उनने बाँध ना दिया  होता 
दिल में बसने की उनने राह चुनी लम्बी सी,
जल्दी आ जाते अगर शॉर्टकट  लिया होता 
दिल  अगर तोड़ना था ,तोड़ते वो धीरे से,
टुकड़े टुकड़े  न उसे इस तरह किया होता 
सुना तो है बहुत,देखा न अब तलक 'घोटू'
होता छोटा सा ,लोग कहते ,दिल दरिया होता 

मदनमोहन बाहेती'घोटू'

No comments: