*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, August 26, 2017

    हृदयाभिनन्दन 

तुम राजा राजेश ह्रदय के ,
और शालीन ,शालिनी जैसे 
पंख लगाये है  ईश्वर  ने ,
तुमको हंस ,हंसिनी  जैसे 
खग से उड़ो और इस जग में ,
जगमग जगमग हरदम चमको 
पाकर पुत्र पायलट तुमसा ,
बहुत  गर्व होता है हमको 
जीवन के इस विस्तृत नभ में ,
रहे तुम्हारी शान हमेशा 
वायुयान से पंख तुम्हारे 
भरते रहे  उड़ान हमेशा 
बन कर रहो विशाल ह्रदय तुम,
सदा 'हनी' सा हो मीठापन 
सदा सुखी ,समृद्ध रहो तुम ,
हृदय तुम्हारा है अभिनंदन 

तुम्हे ढेर सा प्यार करनेवाले 
       मम्मी और पापा 

No comments: