*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, July 29, 2017

घर या घरौंदा 

हमें याद आते है वो दिन 
जब जिंदगी के शुरुवाती सफर में 
रहा करते थे हम ,किराये के एक घर में 
तब मन में एक सपना होता था ,
कि कभी ऐसे दिन भी  आएंगे 
जब हम अपना खुदका एक घर बनाएंगे 
और उसे मन मुताबिक़ सजायेंगे 
सबका अपना अपना कमरा होगा 
पूरा घर रौनक से भरा होगा 
और पूरा करने अपना यही ख्वाब 
काम में जुटे रहे दिनरात 
और फिर एक दिन ऐसा भी आया 
जब हमने अपना घर बनाया 
पर तब तक बच्चे ,पढ़ाई के चक्कर में 
रहने लगे हॉस्टल में 
कभी कभी होली दिवाली आते थे 
खुशियों की महक फैलाते थे 
एक भरे पुरे घर का अहसास कराते थे 
और फिर कुछ दिनों में चले जाते थे 
फिर बेटी की शादी हो गयी 
वो अपने ससुराल चली गयी 
बेटों ने विदेशो में जॉब पा लिया 
और वहीँ पर अपना घरसंसार बसा लिया 
और हमारा बड़े अरमान से बनाया,आशियाना 
हो गया  वीराना 
अब उसमे मैं और मेरी पत्नी ,
जब अकेले में काट रहे अपना बुढ़ापा है 
हमें वो किरायेवाला मकान बहुत याद आता है 
जब उस छोटे से घर में ,
चहल पहल और रौनक रहती थी 
खुशियों की गंगा बहती थी 
तब किराये का ही सही ,
वो घर ,घर लगता था ,
और आज ,
जब खुद का इतना बड़ा बंगला है 
पर तन्हाई में लगता एक जंगला है 
जिसमे मैं और मेरी पत्नी ,
कैदी की तरह एक दुसरे की सुनते रहते है 
अपने बड़े अरमान से बुने हुए सपनो को ,
उधेड़ते और फिर से  बुनते रहते है 
हमारे दिल की तरह ,पूरा घर सूना पड़ा है 
कई बार लगता है ,
घर नहीं,एक घरौंदा खड़ा है 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: