*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, July 29, 2017

बूढ़ों के जज्बात 

क्या बूढ़ों के मन में कुछ जज्बात नहीं रहते 

ये सच है कि साथ समय के ,ढल जाता तन है 
पर वो ही आशिक़ मिजाज सा रहता ये मन है 
भले जवानी के दिन वाला    जोश नहीं रहता  
लेकिन फिर भी देख हुस्न को होश नहीं रहता 
मन रंगीन ,उमंगों से भर ,मचला करता  है 
जलवा अब भी हमें हुस्न का ,पगला करता है 
लेकिन कुछ कर सकने के ,हालात नहीं रहते 
क्या बूढ़ों के मन में कुछ जज्बात नहीं रहते 

हाँ,थोड़ी कम हो जाती पर भूख तो लगती है 
आँखें अब भी ,हुस्न दिखे,चोरी से तकती  है 
ये सच है कि ना रहता यौवन का जलवा  है 
साथ समय के ,सिक कर इंसां ,बनता हलवा है 
पर कोई ना चखता ,मन को बात सालती  है 
बुढ़ियायें तक भी न हमें पर घास डालती है 
वो रंगीन मिजाजी के दिन रात नहीं रहते  
क्या बूढ़ों के मन में कुछ जज्बात नहीं रहते 

सर पर अगर सफेदी छाये ,तो क्या होता है 
आँख अगर धुंधली हो जाए ,तो क्या होता है 
भले नहीं तन का मिजाज अब पहले जैसा है 
पर दिल की रंगीनी तो रंगीन हमेशा   है 
देख हुस्न को अब भी यह मन उछला करता है
लेकिन अंकलजी कहलाना ,पगला करता  है 
अच्छे दिन भी ,ज्यादा दिन तक साथ नहीं रहते 
क्या बूढ़ों के मन में कुछ जज्बात नहीं रहते 

मदन मोहन बाहेती'घोटू' 

No comments: