*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, July 17, 2017

चाँद तुझे मैं समझ न पाया 

चाँद तुझे मैं समझ न पाया कि तू क्या है 
रात रात भर जागा करता 
खिड़की खिड़की झांका करता 
पंद्रह दिन तक बढ़ता जाता 
पंद्रह दिन तक घटता जाता 
और एक दिन पूरा ही गायब हो जाता 
ये सब तेरा चक्कर क्या है 
चाँद तुझे मैं समझ न पाया कि तू क्या है 
तुझको कैसा जादू आता 
कैसे जोड़ लिया करता है  
सबसे ही तू अपना नाता 
माताये अपने बच्चों को ,
चंदा जैसा  प्यारा कहती 
अपना राजदुलारा कहती 
और बच्चे तुझको कहते है चंदा मामा 
ये मामा बनने का चक्कर ,
क्यों,कैसा है ,ये बतलाना 
क्यों सुहाग के सब पर्वों के,
 साथ तुझे जोड़ा जाता है  
पति की लम्बी उमर वास्ते ,
करवा चौथ औरते करती ,
और चलनी से तुझे देख कर ,
ही यह व्रत तोडा जाता है 
कोई प्रेमिका अपने प्रेमी ,
को तुझ जैसा बतलाती है 
इसीलिये 'तू मेरा चाँद ,
मैं तेरी चांदनी वो गाती है 
कोई प्रेमी परेशान हो ,
तुझको खुद सा बतलाता है 
इसीलिए गाना गाता है 
चंदा ओ चंदा ,किसने चुराई ,
तेरी मेरी निंदिया ,
जागे सारी रैना,तेरे मेरे नैना 
आसमान में घूमा करता तू आवारा 
 इससे  कितनी ही विरहन का ,
बन जाता तू एक सहारा 
तेरे साथ संदेशा चाहती वो भिजवाना 
गाकर गाना 
ऐ चाँद जहाँ वो जाए ,तू उनके साथ जाना 
हर रात खबर लाना 
प्रेमी अपनी प्रियतमा का ,
तुझमे अक्स ढूंढने जाते 
इसीलिए वो मेहबूबा मुख,
चाँद चौदहवी का बतलाते 
और सुहाग रातों में अक्सर 
पत्नी के गोर मुखड़े को ,
तुझसे करते है कम्पेयर 
भावुक होकर गाया करते है मस्ती में 
एक रात में दो दो चाँद खिले ,
एक घूंघट में ,एक बदली में 
इंग्लिश में भी पहली नाईट ,
,प्रथम मिलन की ,
तेरे संग है जोड़ी जाती 
जब दोनों प्रेमी मिलते है ,
हनीमून है वो कहलाती  
कोई प्रेमिका जब शरमाती 
क्योकि देख रहा होता तू,
प्यार ,मिलन में वो घबराती 
इसीलिये वो गाना जाती 
बदली में छुप जा रे 
ओ  चंदा ,प्यारे 
मैं उनसे प्यार कर लूंगी 
बातें हज़ार कर लूंगी 
सुनते है कि तू सूरज से ,
लेता है उधार रौशनी 
और सबमे बांटा करता है ,
शीतल उसको बना चांदनी 
दिल का तू कितना अमीर है 
तू सचमुच में दानवीर है 
ऐसा तुझमे क्या आकर्षण 
कि सागर की सारी लहरे ,
तुझसे मिलने उछला करती 
तू जब होता है शबाब पर ,
और जिस दिन होती है पूनम 
ऐसा जाने क्या है तुझमे ,
तेरा रुदबा बढ़ा हुआ है 
इसीलिये तो तू शिवजी के ,
मस्तक भी चढ़ा हुआ है 
एक बात और समझ के बाहर 
किसी काम के लिए
 सभी से मांग मांग कर 
पैसा लोग इकठ्ठा जो करते रहते है 
उसको 'चन्दा'क्यों कहते है 
तेरी सब बाते अलबेली 
अभी तलक पहचान न पाया ,
चंदा तू अनबूझ पहेली 
हर दिन तेरा रूप नया है 
चाँद,तुझे मैं समझ न पाया कि तू क्या है 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: