*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, June 7, 2017

बीबी लगती है परी 

उमर ने ढाया कहर ,ना  रही  काया  छरहरी 
मगर बीबी सबको अपनी ,हमेशा लगती परी 
क्योंकि वो ही इस उमर में,घास तुमको डालती 
बिमारी में और मुश्किल में तुम्हे  संभालती 
सर जो दुखता ,तो दबाती,बाम सर पर मल तुम्हे 
चाहते जब ,चाय संग ,देती पकोड़े  तल  तुम्हे 
पीठ खुजलाती तुम्हारी और दबाती पैर  है 
मंदिरों में पाठ  पूजा ,कर मनाती खैर है  
तुम्हारे खर्राटों में भी ,ठीक से सो पाए जो 
तुम्हारी तकलीफ ,पीड़ा में बहुत घबराये जो 
हमेशा जो चाहती है ,तुम्हारी लम्बी उमर 
रहती पूरे दिवस भूखी,बरत करवा चौथ कर 
टाइम टाइम पर दवाई की ,वो दिलाती याद है 
जिसके कारण छाई खुशियां सारा घर आबाद है  
काम घर के करे सारे ,चाहे कितना भी थके 
सारे रीति रिवाजों का ,ध्यान जो पूरा रखे 
जवानी में काम में हम सदा रहते व्यस्त थे 
याद करिये ,बीबी को हम ,देते कितना वक़्त थे 
सिर्फ आकर बुढ़ापे में ,होती ऐसी बात है 
मियां बीबी साथ में रहते सदा ,दिन रात है 
उसकी सब अच्छाइयों का ,हमें होता भान है 
पूर्ण जो तुम पर समर्पित बीबी गुण की खान है 
पसंदीदा खाना मिलता ,समय पर,उसकी वजह 
इस उमर मे हम हैं  उस पर आश्रित ,पूरी तरह 
भले उसको अब न भाते ,जवानी के चोंचले 
मगर फिर भी बुलंदी पर रहते उसके हौंसले 
होश अब भी ,उड़ा देती, उसकी नज़रें मदभरी 
इसलिए ही बीबी अपनी ,सबको लगती है परी 

मदन मोहन बाहेती' 'घोटू'

No comments: