*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, June 13, 2017

टमाटर

टमाटर महान होता है
सब्जियों की शान होता है
यह एक बहु उपयोगी चीज है
जो भोजन को बनाती लजीज है
'सेंडविच' में दबाकर खाया जाता है
पीज़ा पर भी बिछाया जाता है
सभी प्रेम से पीते टमाटर का सूप है
सेहत के लिए अच्छा और स्वाद अनूप है
टमाटर की ग्रेवी के बिना ,
सब्जियों में स्वाद नहीं आता है
और टमाटर का ज्यूस भी,
काफी पसंद किया जाता है
इसके रस में ,'वोदका 'नामक मदिरा मिला ,
'ब्लडी मेरी' नामक कॉकटेल प्रेम से पी जाती है
और सुन्दर सुन्दर रक्तिम कपोलों को ,
लाल टमाटर जैसे गालों की तुलना दी जाती है
पर ऐसे गाल ,अक्सर ठन्डे मुल्कों के ,
गोर लोगों के ही पाए जाते है
पर हम बचपन का अपना अनुभव सुनाते है
जब हमारी गलती पर ,मास्टरजी या पिताजी,
जब गालों पर जोरदार चपत लगाते थे
हमारे गाल भी टमाटर जैसे लाल हो जाते थे
हनुमान जी भी,बचपन में ,उगते सूरज को ,
टमाटर समझ कर,खाने को दौड़े थे
दुनिया में त्राहि त्राहि मच गयी थी,और
देवताओं की विनती पर बड़ी मुश्किल से छोड़े थे
टमाटर ,कराता है शादी का अहसास
क्योंकि शादी के बाद ही मिलती है सास
और टमाटर होता है ,तभी सॉस बन पाती है
बड़ी चटपटी और मजेदार होती है और ,
समोसे और पकोड़ों का स्वाद बढाती है
जैसे हम ,एक दूसरे पर रंग फेंक कर ,
होली का त्योंहार मनाते है
स्पेन देश में ,'टोमेटिनो' उत्सव में ,
एक दूसरे पर पके टमाटर फेंके जाते है
टमाटर की उपयोगिता ,तब भी नहीं घटती ,
जब कि यह सड़ जाता है
विपक्षी नेताओं के भाषण के समय ,
विरोध प्रदर्शन के लिए ,इसे फेंका जाता है
टमाटर होते बड़े मिलनसार है
लगभग सभी सब्जियों से इनका दोस्ताना व्यवहार है
सच तो ये है कि टमाटर के बिना ,
सब्जियों में स्वाद नहीं आता है
इसीलिए टमाटर ,सब्जियों का राजा कहलाता है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: