*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, March 27, 2017

आज़ादी 

शीत  ऋतू में ,गरम वस्त्र में,
रखा हुआ था जिन्हें दबाकर 
अपना पूरा रंग आज वो,
दिखा रहे है मौका  पाकर 
श्वेत चर्म चुम्बी वसनो मे ,
हुई भीग कर, तुम इतना तर 
तन के सब आयाम तुम्हारे
,साफ़ हो रहे दृष्टिगोचर 
बहुत दिनों तक रह बन्धन में ,
जब मिलती थोड़ी आजादी 
तो अपनी मर्यादा तोड़े,
सब हो जाते है  उन्मादी 

घोटू 

No comments: