*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, September 1, 2016

एक सच ये भी

        एक सच ये भी

भले ही इन इमारतों की बढ़ती हुई ऊंचाई ने ,
मुझकोमेरे अदनेपन का अहसास करवाया है
और इन अट्टालिकाओं ने ऊंचा उठ कर के ,
सुबह सुबह की मेरी धूप को भी खाया  है
ये सच है कि मेरा मुकाम उनसे नीचा है ,
और वो ऊंचे से महलों में वास करते है
मगर मैं उनसे सर उठा के बात करता हूँ
और वो मुझसे सर झुका के बात करते है ,
 
२ 

सुना है आजकल वो बन गए है शुगरमिल ,
डाइबिटीज है, काफी शुगर बनाते है
मगर वो हो गए कंजूस इस कदर से है,
जरा भी बोली मे ,मिठास नहीं लाते है

मदन मोहन बाहेती'घोटू '

No comments: